श्रीमद् भागवत कथा का किया जा रहा है भव्य आयोजन

JAUNPUR NEWS: शाहगंज तहसील मुख्यालय से करीब डेढ़ किलोमीटर पश्चिम दिशा में स्थित ग्राम छताईकला के निवासी शीतला प्रसाद सिंह की अगुवाई में श्रीमद् भागवत कथा का भव्य आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन से पूरे गांव सहित पूरे क्षेत्र में हर्षोल्लास का माहौल देखा जा रहा है ।आज प्रेस वार्ता करते हुए शीतला प्रसाद सिंह ने गांव व क्षेत्र सहित जनपद वासियों से अपील किया है कि वह अधिक से अधिक संख्या में पहुंचकर कार्यक्रम को सफल बनाने में अपना सहयोग करें।

उन्होंने कहा की श्रीमद भागवत कथा के स्मरण करने मात्र से हमारे सभी पाप नष्ट हो जाते है और अनंत पुण्यों की प्राप्ति होती है। श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करने हेतु देवता गण भी तरसते रहते है। और मानव प्राणी को इस कथा का लाभ व आशीर्वाद आसानी से भी मिल सकता है। श्रीमद भागवत कथा सुनने मात्र से मानव जीवन का पूरी तरह से कल्याण हो जाता है।कथा की सार्थकता तब ही सिद्ध होती है जब इसे हम अपने जीवन व व्यवहार में धारण कर निरंतर हरि स्मरण करते हैं।अपनेजीवनकोआनंदमय,मंगलमय बनाकर अपना आत्म कल्याण करें। शीतला प्रसाद सिंह के पुत्र सत्येन्द्र सिंह (पर्यावरणविद् ) ने कहा कि श्रीकृष्ण की रासलीला के दर्शन करने के लिए शिवजी को गोपी का रूप धारण करना पड़ा। वास्तव में भगवान की कथा के दर्शन हर किसी को प्राप्त नहीं होते। कलियुग में भागवत साक्षात श्रीहरि का रूप है। पावन हृदय से इसका स्मरण मात्र करने पर करोड़ों पुण्यों का फल प्राप्त हो जाता है। इस कथा को सुनने के लिए देवी देवता भी तरसते हैं और दुर्लभ मानव प्राणी को ही इस कथा का श्रवण लाभ प्राप्त होता है। कथा के श्रवण मात्र से ही प्राणी मात्र का कल्याण संभव है।

छताईं कला व शाहगंज एवं इसके आसपास के सभी ग्राम के सभी भक्तजनों के लाभार्थ की आपके क्षेत्र में प्रथम बार भागवत कथा का भव्य आयोजन दिनांक 15 जनवरी से 22 जनवरी तक ग्राम छताईं कला में किया जा रहा है। सुप्रसिद्ध कथा वाचक, मथुरा के श्री हिमेश शास्त्री जी महाराज, अपनी ओजस्वी वाणी से आपको कथा के वचनामृत का पान कराएँगे।कथा प्रतिदिन दोपहर ठीक 12:30 बजे से 4 बजे तक होगी। 15 जनवरी को कलश यात्रा एवं शोभा यात्रा प्रातः 8 बजे से ग्राम छताईं कला में निकाली जायेगी ।कलश उठाने का बहुत ही महत्त्व है। कलश सुख-समृद्धि का प्रतीक है। जो लोग कलश यात्रा में चलते हैं सुख-समृद्धि उनका साथ कभी नहीं छोड़ती और वे परमात्मा की विशेष कृपा के पात्र हो जाते हैं।इस शुभ अवसर पर ग्राम छताईं कला में स्थित प्राचीन हनुमान गढ़ी मन्दिर में श्री नर्मदेश्वर शिवलिंग की स्थापना शिव परिवार के साथ की जा रही है और भगवान श्री राधा कृष्ण की अलौकिक मूर्ति की स्थापना एवं प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम भी होगा। श्री नर्मदेश्वर महादेव के स्वयंभू शिवलिंग को नर्मदा नदी से लाया गया है। एवं श्री राधा कृष्ण की अद्भुत एवं सुन्दर प्रतिमा को राजस्थान के अलवर जिले में वियतनाम के सफ़ेद पत्थर से भारत के प्रसिद्ध कारीगरों द्वारा बनाया गया है।इस शुभ अवसर पर भगवान के अभिषेक के लिए पूरे भारत की विभिन्न नदियों, तीर्थ स्थानों के सरोवरों का जल, क्षीर सागर एवं मानसरोवर झील का जल लाया गया है। कथा के अन्तिम दिन 22 जनवरी को हवन पूजन के साथ विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया है जिसमे आप सभी लोग उपस्थित होकर अमृत रुपी प्रसाद ग्रहण करेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता शीतला प्रसाद सिंह द्वारा किया जा रहा है साथ ही में सत्येंद्र सिंह,नितेंद्र सिंह, चतुर्भुज सिंह,प्रेमप्रकाश सिंह ,विनीत सिंह हनुमान,अजय सिंह बबलू सहित सभी ग्रामवासी अपना पूरा सहयोग कर रहे हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments