JAUNPUR:आधुनिक खेती से बढ़ेगी किसानो की आय,कैलाश प्रजापति

JAUNPUR NEWS जौनपुर रामपुर क्षेत्र के बासुपुर ग्राम सभा में पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली द्वारा प्रायोजित एवं मदन फाउंडेशन,अमेठी, द्वारा किसान गोष्ठी का कार्यक्रम में बतौर कृषि विशेषज्ञ कैलाश प्रजापति ने उपस्थित किसानों को कृषि के प्रति जागरुक करते हुए कहा कि भारत सदियों से कृषि प्रधान देश रहा है। सभी किसानों को आधुनिक खेती के लिए जागरूक किया किसानों को सरकार द्वारा चलाई जा रही कृषि से संबंधित योजनाओं पर विस्तृत रूप से चर्चा की।अधिक पैदावार के चक्कर में रासायनिक खाद का प्रयोग करने से होने वाले हानिकारक प्रभावों एवं जैविक खेती को बढ़ावा देने पर जानकारी दी गई। संरक्षित खेती एवं आलू में टपक सिंचाई के उपयोग पर जानकारी दी और बताया कि पाली हाउस एवं शेडनेस हाउस का कैसे सही उपयोग करके किसान अपनी आय को दोगुना करने में सफलता प्राप्त कर सकता है।संजय सिंह (ग्राम प्रधान) बासुपुर ने वर्तमान में केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही अनेक किसान कल्याण योजनाओं के बारे में बताया। किसान इन योजनाओं के माध्यम से कैसे अपनी कृषि लागत को काम करके अपनी आय को अधिक कर सकते हैं इस बात पर मुख्य रूप से जोर दिया गया इसके बारे में गहराई से जानकारी दी गई ।

कार्यक्रम में उपस्थित सभी किसान बहुत खुश हुए कार्यक्रम में बतौर नामवर सिंह ने जल शक्ति मिशन के बारे में जागरूक किया कृषकों को बताया कि हरी खाद के प्रयोग से भूमि की उर्वरक शक्ति बढ़ती है। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री अशोक सिंह ने बागवानी में फसलों के बारे में जानकारी दी किसान सम्मन निधि,अन्य, व कृषि विभाग संबंधित योजनाओं की जानकारी दी। कार्यक्रम में वक्ता समीर मिश्रा ने कहा कि बिना वृक्ष के धरती पर जीवन की कल्पना करना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हे। वृक्षारोपण, हमारे लिए कितना उपयोगी हे, वृक्ष न होने से क्या नुकसान और वृक्ष के होने से हमारी ज़िंदगी में क्या फायदा हो सकता हे इसके बारे में विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि वृक्ष हमे जीवन दायिनी प्राणवायु (ऑक्सीजन) प्रदान करते है। बिना ऑक्सीजन के जीवन टिक पाना असंभव हे। हम पानी और भोजन के बगैर कुछ दिनो तक ज़िंदा रह सकते हे, मगर बिना प्राणवायु यानि के ऑक्सीजन के बगैर कुछ पल में ही हमारी मृत्यु निश्च्चित हे। दोस्तों , कुछ दशकों पहले तक मनुष्य के जीवन का आधार सिर्फ वृक्ष ही हुवा करते थे, भूतकाल में पेड़ से मनुष्य को भोजन तो प्राप्त होता ही था, साथ में वस्त्र, दवाईयां, घर, और अग्नि सभी जीवन जीने के लिए लगनेवाली वस्तुएं मनुष्य पेड़ से ही प्राप्त करता था। कार्यक्रम के अध्यक्ष श्री अखिलेश सिंह ने उपस्थित अतिथियों को प्रतीक चिन्ह एवं अंग वस्त्र देकर सम्मान किया कार्यक्रम व्यवस्थापक अनुराग एवं दिनेश ने उपस्थित सभी किसानों के प्रति आभार व्यक्त किया। मुख्य अतिथि नामवर सिंह एवं विशिष्ट अतिथि अशोक सिंह को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया, कार्यक्रम के अंत में मदन फाउंडेशन की तरफ से उपस्थित सभी सदस्यों एवं किसानों ने इस गोष्ठी के प्रयोजन हेतु पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय को सभी ने धन्यवाद

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments