Nandini Murder Case Sant kabir nagar पुलिस की बड़ी कार्यवाही

रविवार को घंटो मशक्कत के बाद पुलिस ने शव को किसी तरह  पोस्टमार्टम के लिए पीएम हाउस भेजा, घटना स्थल पर पहुंचे आईजी रेंज बस्ती आरके भारद्वाज द्वारा दोषीयो पर कार्यवाई और शहर कोतवाल बिजेंद्र पटेल को सस्पेंड करते हुए बस्ती जनपद से अटैच करते हुए सीओ समेत अन्य पुलिस कर्मीयो की भूमिका की जांच कराए जाने की मांग  पर नंदिनी के शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाया गया ,लेकिन फिरभी  पुलिस के प्रति परिजनों और ग्रामीणों में असंतोष ब्याप्त है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक NANDINI MURDUR CASE में जिस तरह आरोपियों ने दिन दहाड़े घर में घुसकर चाकुओं से गोदकर हत्या की है। घटना के पीछे जमीनी विवाद का कारण सामने आ रहा है। दिनदहाड़े हत्या से गांव में तनाव का माहौल है। मौके पर भारी पुलिस फोर्स तैनात है।

संत कबीर नगर की भारतीय समाज पार्टी की प्रदेश सचिव नंदिनी राजभर पत्नी अच्छेलाल राजभर कोतवाली खलीलाबाद क्षेत्र के डीघा मोहल्ले की निवासी थीं। नंदिनी राजभर रविवार को भाजपा कार्यालय पर एक बैठक में शामिल होने के बाद शाम लगभग 4 बजे अपने घर लौटी थीं। उनके पति शहर में काम करने गए हुए थे और उनका 7 वर्षीय एकलौता बेटा भी खेलने गया था। शाम लगभग पांच बजे मोहल्ले की किसी  महिला ने उनके घर किसी काम से गई हुई थी दरवाजा खुला होने के चलते महिला नंदिनी राजभर के कमरे में पहुंची तो फर्श पर नंदिनी की खून से लथपथ लाश पड़ी थी। इसकी सूचना जब पड़ोसियों  के लोगों तक पहुंची तब महिला के शोर मचाने पर मोहल्ले के तमाम लोग मौके पर पहुंचे। इसी बीच लोगों ने मामले की सूचना कोतवाली पुलिस को  दिया था ।

उच्चाधिकारियों को घटना की सूचना देने के बाद कोतवाली प्रभारी बृजेन्द्र पटेल घटना स्थल पर फारेंसिक टीमऔर भारी पुलिस बल के साथ पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक शशि शेखर सिंह और एसपी सत्यजीत गुप्ता डीएम महेन्द्र सिंह तवर और बीजेपी सांसद प्रवीण निषाद ने घटनास्थल डीघा पर पहुंचकर मामले की तफ्तीश की ।

दूसरी तरफ घटना को लेकर सुभासपा कार्यकर्ता और गांव के लोगों में जबरदस्त आक्रोश देखने को मिल रहा है । पुलिस लोगों को घंटो समझाने में जुटी रही  पुलिस, मगर गांव के लोग नंदिनी के शव को पुलिस को देने को तैयार नहीं थे। एसपी सत्यजीत गुप्ता के अगुवाई में बड़ी संख्या में पुलिस मौके पर जमी रही  ,दिनदहाड़े हुई इस  हत्या से गांव में तनाव का माहौल ब्याप्त  हो गया। उस समय मौके पर पहुंची पुलिस को ग्रामीणों ने शव को ले जाने से रोक दिया था लोगों ने बताया कि नंदिनी राजभर इलाके की अच्छी नेत्री थी। वह अपने रिश्ते के ससुर को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ाई लड़ रही थी। उसी मामले को लेकर उनको धमकी मिल रही थी जबकी पुलिस से नंदिनी ने पहले शिकायत की थी मगर पुलिस ने नजर अंदाज कर दिया था।जिसके चलते रविवार को नंदिनी की  घर में घुसकर चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी गई। उनका शव घर के कमरे पड़ा था। पूरे शरीर पर चाकू से कई वार किए गए थे।

NANDINI MURDER CASE में बताया जा रहा है कि नंदिनी राजभर ससुर वाले मुकदमे में अगुवाई कर रही थी। एक सप्ताह पहले रिश्ते के ससुर का रेलवे ट्रैक पर शव मिला था। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चल सका है कि हत्या किसने की है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। उधर मृतिका के एक रिश्तेदार ने बताया कि 29 फरवरी को एक और हत्या हुई थी। उसको आत्महत्या का रूप दे दिया गया था वह नंदिनी के रिश्ते में ससुर लगते थे। उन्हीं के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए लगी हुई थी जमीनी रंजिश को लेकर नंदिनी को  मार दिया गया  29 फरवरी को हुए मर्डर को पुलिस ने दबा दिया वही मृतिका के मुहल्ले के लोगो ने बताया कि  जिस आदमी की अभी पिछले महीने हत्या हुई वह रिश्ते मे ससुर लगते थे उसी को लेकर नंदनी आवाज उठा रही थीं उनको रोज धमकी मिल रही थी जिसके चलते हत्या हो गई।

वही घटना स्थल पर पहुंचे आईजी आर के भारद्वाज ने Nandini Murder Case मे दोषीयो पर कार्यवाई और शहर कोतवाल बिजेंद्र पटेल को सस्पेंड करते हुए बस्ती जनपद से अटैच करने का आदेश देते हुए सीओ सदर समेत अन्य पुलिस कर्मीयो की भूमिका की जांच के आदेश दिए है पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने बताया कि मृतक के परिजनों ने 10 दिन पहले जमीन के विवाद के संबंध मे तहरीर दिए थे जिसमे कुछ लोगो के नाम सामने आए है। उसकी पुलिस जांच कर रही है तफ़्तीश के बाद जो निष्कर्ष सामने आएगा उसपर पुलिस उचित विधिक कार्यवाही करेगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments